गोदान||Godan by Munshi Premchand मुंशी प्रेमचंद

Spread the love

Download Godan by Munshi Premchand Pdf For Free

Godan by Munshi Premchand

Book Name/Tittle:- गोदान||Godan

Author:- मुंशी प्रेमचंद

Date Of Publish:- 1936(Original)|| प्रकाशन की तारीख12 अप्रैल 2016

Genre:-Non-fiction, Hindi

Short Description:-Premchand is the most famous Hindi novelist and Godaan is Premchand’s most celebrated novel. Economic and social conflict in a north Indian village are brilliantly captured in the story of Hori, a poor farmer and his family’s struggle for survival and self-respect. Hori does everything he can to fulfill his life’s desire: to own a cow, the peasant’s measure of wealth and well-being. Like many Hindus of his time, he believes that making the gift of a cow to a Brahman before he dies will help him achieve salvation. An engaging introduction to India before Independence, Godaan is at once village ethnography, moving human document and insightful colonial history

Gdrive Download MediaFire Download

Also See:-

Download Hindi books for free

Indian Politics books download for free

कौन रोएगा आपकी मृत्यु पर ||Who Will Cry When You Die? By Robin S. Sharma

Ikigai||इकिगाई by Francesc Miralles and Hector Garcia


Godan by Munshi Premchand:Review By Pdffare.com

प्रेमचंद आधुनिक हिंदी साहित्य के कालजयी कथाकार हैं। कथा-कुल की सभी विधाओं—कहानी, उपन्यास, लघुकथा आदि सभी में उन्होंने लिखा और अपनी लगभग पैंतीस वर्ष की साहित्य-साधना तथा लगभग चौदह उपन्यासों एवं तीन सौ कहानियों की रचना करके ‘प्रेमचंद युग’ के रूप में स्वीकृत होकर सदैव के लिए अमर हो गए। प्रेमचंद का ‘सेवासदन’ उपन्यास इतना लोकप्रिय हुआ कि वह हिंदी का बेहतरीन उपन्यास माना गया।

‘सेवासदन’ में वेश्या-समस्या और उसके समाधान का चित्रण है, जो हिंदी मानस के लिए नई विषयवस्तु थी। ‘प्रेमाश्रम’ में जमींदार-किसान के संबंधों तथा पश्चिमी सभ्यता के पड़ते प्रभाव का उद्घाटन है। ‘रंगभूमि’ में सूरदास के माध्यम से गांधी के स्वाधीनता संग्राम का बड़ा व्यापक चित्रण है।

‘कायाकल्प’ में शारीरिक एवं मानसिक कायाकल्प की कथा है। ‘निर्मला’ में दहेज-प्रथा तथा बेमेल-विवाह के दुष्परिणामों की कथा है। ‘प्रतिज्ञा’ उपन्यास में पुनः ‘प्रेमा’ की कथा को कुछ परिवर्तन के साथ प्रस्तुत किया गया है। ‘गबन’ में युवा पीढ़ी की पतन-गाथा है और ‘कर्मभूमि’ में देश के राजनीति संघर्ष को रेखांकित किया गया है। ‘गोदान’ में कृषक और कृषि-जीवन के विध्वंस की त्रासद कहानी है।

download Godan by Munshi Premchand pdf for free

You Also check reviews on Goodreads.com


Spread the love

Leave a Comment